Shine Delhi

Home

वंदना यादव को मिला इग्नू का राष्ट्रीय फीचर लेखन प्रतियोगिता पुरस्कार


इस प्रकार की प्रतियोगिताएं युवाओं को स्वामी विवेकानंद जैसे महापुरुषों के बारे में पढ़ने और जानने के लिए प्रेरित करती हैं और यही इनकी सार्थकता भी है : प्रोफेसर नागेश्वर राव

अंग्रेजी फीचर राइटिंग में आईआईटी बॉम्बे के छात्र को पहला पुरस्कार मिला। वहीं हिंदी फीचर राइटिंग में पहला और दूसरा पुरस्कार इग्नू के विद्यार्थियों ने जीता, जबकि तीसरा पुरस्कार मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की पीएचडी शोधार्थी वंदना यादव के हिस्से आया, जिसके तहत वंदना यादव को दो हजार रुपये की पुरस्कार राशि और सर्टिफिकेट दिए जाएंगे। 

मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर की पीएचडी शोधार्थी सुश्री वंदना यादव को राष्ट्रीय युवा दिवस और स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर नेशनल फीचर राइटिंग प्रतियोगिता में तृतीय पुरस्कार हासिल हुआ है। बता दें कि लोकप्रिय कवयित्री और वंदना मीडिया की डायरेक्टर वंदना यादव हिंदी में उत्कृष्ट लेखन और अपनी विशिष्ट प्रस्तुतीकरण शैली के लिए जानी जाती हैं और हाल ही में नोएडा के प्रेरणा शोध संस्थान के कार्यक्रम में उनके द्वारा लिखित पुस्तक ‘न्यू मीडिया ए पैराडाइम शिफ्ट’ का विमोचन हुआ था। अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में करीब 450 प्रतिभागियों ने स्वामी विवेकानंद से जुड़े फीचर भेजे थे, जिसके बाद स्कूल ऑफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया स्टडीज के वरिष्ठ प्रोफेसर और पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. शंभूनाथ सिंह की सदस्यता वाली तीन सदस्यीय कमिटी ने पुरस्कारों का चयन किया।

हिंदी और अंग्रेजी में आयोजित इस फीचर राइटिंग प्रतियोगिता में देश के तमाम बड़े संस्थानों के छात्रों ने हिस्सा लिया था। अंग्रेजी फीचर राइटिंग में आईआईटी बॉम्बे के छात्र को पहला पुरस्कार मिला। वहीं हिंदी फीचर राइटिंग में पहला और दूसरा पुरस्कार इग्नू के विद्यार्थियों ने जीता, जबकि तीसरा पुरस्कार मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग की पीएचडी शोधार्थी वंदना यादव के हिस्से आया, जिसके तहत वंदना यादव को दो हजार रुपये की पुरस्कार राशि और सर्टिफिकेट दिए जाएंगे। इसके साथ ही तमिल भाषा की फीचर राइटिंग प्रतियोगिता के तीनों पुरस्कार इग्नू के छात्र-छात्राओं ने जीते।

स्वामी विवेकानंद जयंती और राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) के पत्रकारिता एवं नवीन मीडिया अध्ययन विद्यापीठ द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता का विषय था “अमृत काल में राष्ट्र निर्माण और भारतीय युवा : प्रेरणास्रोत के रूप में स्वामी विवेकानंद”।

विवेकानंद जयंती के अवसर पर विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में इग्नू के कुलपति प्रोफेसर नागेश्वर राव ने फीचर लेखन प्रतियोगिता के विजेताओं के नामों की घोषणा की। इस अवसर पर बोलते हुए प्रोफेसर नागेश्वर राव ने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताएं युवाओं को स्वामी विवेकानंद जैसे महापुरुषों के बारे में पढ़ने और जानने के लिए प्रेरित करती हैं और यही इनकी सार्थकता भी है। कार्यक्रम में बोलते हुये कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं आंध्र प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कुमार विश्वजीत ने आधुनिक युग में युवाओं के लिए स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं की प्रासंगिकता को रेखांकित किया। कार्यक्रम में  विद्यापीठ के वरिष्ठ प्रोफेसर एवं पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर शंभूनाथ सिंह, वर्तमान निदेशक प्रो. अरुल सेलवन सहित अन्य कई शिक्षकों एवं पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

प्रतियोगिता के संयोजक डॉ. अमित कुमार ने बताया कि पूरे देश से बड़ी संख्या में हिंदी, अंग्रेजी और तमिल तीनों भाषाओं में फीचर प्राप्त हुए और यह युवाओं के बीच स्वामी विवेकानंद की लोकप्रियता को दर्शाता है। उनके अनुसार इस प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य छात्र-छात्राओं को स्वामी विवेकानंद के बारे में अधिक से अधिक पढ़ने को प्रेरित करना है ताकि वे उन शिक्षाओं को अपने जीवन में उतार कर खुद के साथ-साथ अपने समाज को भी बेहतर बना सकें।


Leave a Comment

Your email address will not be published.