Shine Delhi

Home

ट्रेड फेयर में तथ्य और सत्य आधारित पत्रकारिता का हम समर्थन करते हैं – ओएसडी कर्नल पुष्पम कुमार 


आजादी की अमृत गाथा-102 में  ट्रेड फेयर प्रगति मैदान के प्रथम वास्तुकार राज रेवाल को आरजेएस मीडिया ने दी श्रद्धांजलि

 नई दिल्ली : दिल्ली के प्रगति मैदान में 14 नवंबर से चल रहे भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2022 के अवसर पर आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया द्वारा आयोजित आजादी की अमृत गाथा के 102 वें कार्यक्रम में पहुंचकर  मुख्य अतिथि एसएम व ओएसडी आईटीपीओ व ट्रेड फेयर 2022 – कर्नल पुष्पम कुमार ने भारत की‌ झांकी कवर कर रहे पाॅजिटिव मीडियाकर्मियों का  उत्साह वर्धन किया। उन्होंने कहा कि सत्य और तथ्य आधारित पत्रकारिता का हम समर्थन करते हैं।  आजादी का अमृत महोत्सव के दौरान आयोजित इस मेले के मीडिया सेंटर में विशिष्ट अतिथि आईटीपीओ के पीआरओ विवेकानंद विवेक ने अपने संबोधन में कहा कि पाॅजिटिव मीडिया विगत सालों की तरह ट्रेड फेयर में सकारात्मक पत्रकारिता से भारत की सकारात्मक छवि को  राष्ट्रीय मानचित्र पर  प्रस्तुत कर रही है। आरजेएस ऑब्जर्वर और पूर्व ओएसडी दिल्ली सरकार व पूर्व निदेशक एमसीडी दीपचंद माथुर ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और आभार जताया।

आरजेएस राष्ट्रीय संयोजक उदय कुमार मन्ना ने कहा कि काॅरपोरेट कम्युनिकेशन के सीनियर मैनेजर विवेकानंद विवेक के साथ सभी मीडियाकर्मियों ने उत्साह से लवरेज एक फोटो सेशन में भाग लिया और मीडियाकर्मियों को आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया का प्रशंसा-पत्र भी प्रदान किया गया। तत्पश्चात् श्री विवेकानंद विवेक ने पाॅजिटिव मीडिया की ओर से संज्ञान मीडिया नेटवर्क के प्रांजल श्रीवास्तव और धर्मेश शुक्ला को तमिलनाडु की सकारात्मक भारत -उदय‌ यात्रा की शुभकामनाएं देते हुए राष्ट्रीय ध्वज और तिरंगा बैज प्रदान कर, अंगवस्त्र से सम्मानित किया।

कार्यक्रम के सफल कार्यान्वयन में आईटीपीओ पीआर यूनिट से अमृता घई, प्रेम प्रकाश, धर्मेंद्र कुमार और मौहम्मद रेहान का पूरा सहयोग रहा। श्रृंखलाबद्ध आजादी की अमृत गाथा(2022-23)@150 के राष्ट्रीय संयोजक श्री मन्ना ने कहा कि हमें उस शख्सियत का आभारी होना चाहिए और याद रखना चाहिए जिसकी सकारात्मक सोच ने हमें भारत को जानने समझने का उसे एक सूत्र में पिरोने का एक अवसर उपलब्ध कराया। प्रगति मैदान नई दिल्ली के ट्रेड फेयर का समग्र ले आउट और परियोजना, वास्तुकार राज रेवाल द्वारा डिजाइन की गई थी।  इसका उद्घाटन 3 नवंबर 1972 को तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी द्वारा एशिया 72 नामक अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले की पूर्व संध्या पर किया गया था।  स्थल और कार्यक्रम भारत की आजादी के 25 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए थे।

आज आधुनिक युग के अंदाज में प्रगति मैदान स्टेट ऑफ आर्ट को गरिमा प्रदान कर रहा है। जगह -जगह पीने का नि: शुल्क स्वच्छ जल उपलब्ध है,तो आवश्यकतानुसार केंद्रीय सुविधा केंद्र अहम सूचना मेला परिसर में प्रसारित करता है। 25 नवंबर को  मेले में पंजाब और पश्चिम बंगाल के सांस्कृतिक कार्यक्रमों और राज्यों के लजीज व्यंजनों का आनंद दर्शकों को विविधता में एकता के  सकारात्मक जीवन का संदेश दे रहा है।

26 नवंबर को आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र अपना राज्य दिवस समारोह मनाएंगे।  शान्ति पूर्ण ढंग से समापन की ओर बढ़ रहे मेले के लिए समग्र आईटीपीओ कर्मचारियों और सभी पुलिसकर्मियों को मेला दर्शक बधाई दे रहे हैं। आजादी की अमृत गाथा कार्यक्रम का समापन  पाजिटिव मीडियाकर्मियों द्वारा तमिलनाडु पवेलियन की कवरेज करके हो गया। मेला दर्शकों की यादों में बसा  ये मेला 27 नवंबर को आईटीपीओ अवार्ड फंक्शन के बाद साढ़े चार बजे  संपन्न हो जाएगा।


Leave a Comment

Your email address will not be published.