Shine Delhi

Home

अर्जुन देव चारण द्वारा लिखित पुस्तक ‘पंचम वेद – नाट्य शास्त्र : नवीन दृष्टि’ का किया गया विमोचन


राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली : राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के सम्मुख सभागार में पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया। पत्रकार वार्ता विद्यालय में गत एक वर्ष के दौरान हुई प्रगति पर आधारित थी। इसी दौरान श्री अर्जुन देव चारण द्वारा लिखित पुस्तक ‘पंचम वेद – नाट्य शास्त्र : नवीन दृष्टि’ का भी विमोचन किया गया।

पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय सोसाइटी के अध्यक्ष एवं प्रख्यात रंग और सिने अभिनेता पद्मश्री श्री परेश रावल ने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में हुए प्रगति कार्यों को विद्यालय के सम्पूर्ण स्टाफ़़ और संकाय के सामूहिक प्रयासों का फल बताते हुए विद्यालय को और आगे ले जाने पर ज़ोर दिया।

 

श्री रावल ने सितम्बर 2020 में कोरोना की महामारी के बीच अध्यक्ष पद का दायित्व ग्रहण किया था और उसके बाद छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए आभासी माध्यम से ऑनलाइन कक्षाओं की शुरुआत की ताकि छात्रों के अध्ययन में कोई व्यवधान न आने पाए। इसके साथ ही वर्षों से रुके पड़े विद्यालय पुनर्विकास के कार्य को भी श्री परेश रावल ने व्यक्तिगत दिलचस्पी और पहल से आगे बढ़ाया है। श्री रावल के कार्यकाल में ही विद्यालय परिसर के डिजिटलीकरण की पहल भी हुई है और विद्यालय में आज कक्षाओं के सुचारु रूप से भौतिक संचालन के साथ ही नए सत्र के प्रवेश की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। कला गतिविधियों से अछूते जम्मू-कश्मीर राज्य में रंग गतिविधियों की शुरुआत के लिए राज्य में विद्यालय के संस्कार रंग टोली स्कन्ध की शुरुआत का निर्णय लिया गया।

पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के कार्यकारी निदेशक श्री दिनेश खन्ना ने अध्यक्ष के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए समाज में रंगमंच की भूमिका को रेखाँकित करते हुए विद्यालय को राष्ट्रीय महत्व के संस्थान के रूप में मान्यता दिलाने का संकल्प दोहराया।

श्री खन्ना ने 31 ज़ुलाई 2021 को विद्यालय के कार्यकारी निदेशक का दायित्व सम्भाला था और उसके बाद सर्वप्रथम माननीय प्रधानमंत्री जी की महत्वाकाँक्षी योजना ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ को सार्थक गति देते हुए विद्यालय में अगस्त की 12, 13 और 14 तारीख़ों में एक त्रिदिवसीय नाट्य महोत्सव को अन्तिम रूप दिया, जिसका ऑनलाइन प्रसारण किया गया था। इसी योजना के अन्तर्गत विद्यालय की भूमिका को और विस्तार देते हुए विद्यालय रंग मण्डल, संस्कार रंग टोली और विस्तार कार्यक्रम के अन्तर्गत देश भर में विभिन्न रंग कार्यशालाओं के माध्यम से पूरे वर्ष भर आज़ादी के अकीर्तित नायकों पर नाट्य मंचन की विस्तृत रूपरेखा तैयार की। इस कड़ी में विद्यालय की रंगमण्डल कम्पनी के कलाकारों ने नवम्बर 2021 में गाँधी जी के सत्याग्रह आन्दोलन की पहली महिला सेनानी हिन्दी की कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान पर एक नाटक ‘ख़ूब लड़ी मर्दानी’ का लेखन और मंचन किया।

विद्यालय में कक्षाओं के सुचारु संचालन की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही छात्रों के साथ नौटंकी शैली में नाटक ‘सत्य हरिश्चन्द्र’ का मंचन श्री रामदयाल शर्मा और डॉ. उमेश चन्द्र शर्मा की देखरेख में अक्टूबर में किया गया और ऐक्टिंग सीन वर्क के तहत इब्सन के पाँच नाटकों के चुनिन्दा अंशों का मंचन अक्टूबर माह में ही श्री दिनेश खन्ना के निर्देशन में विद्यालय के अभिमंच सभागार में किया गया। वर्तमान में प्रथम वर्ष और द्वितीय वर्ष के छात्रों के साथ चार नई प्रस्तुतियों पर कार्य चल रहा है।

कोरोना के कारण रुकी पड़ी रहीं विद्यालय की गतिविधियों को सुचारु रूप से पटरी पर लाने की प्रक्रिया में विद्यालय में नए प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो गई है। सितम्बर माह में नए सत्र के लिए समाचार पत्रों में विज्ञापन देने के बाद प्राप्त आवेदनों पर विचार करते हुए 1 दिसम्बर 2021 से साक्षात्कार की प्रक्रिया शुरू हो रही है और जनवरी 2022 से नए सत्र की शुरुआत हो जाएगी।

जम्मू और कश्मीर क्षेत्र में रंगमंच के संस्थान की आवश्यकता लम्बे समय से अनुभव की जा रही थी। आतंकवाद से 3 दशकों तक प्रभावित रहे इस क्षेत्र में रंग गतिविधियों को साकार रूप देते हुए श्री दिनेश खन्ना ने 30 अक्टूबर 2021 को श्रीनगर में जम्मू और कश्मीर कला संस्कृति और भाषा अकादमी के साथ राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय की ओर से एक एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर कर श्रीनगर में विद्यालय के थिएटर इन एजुकेशन स्कन्ध की स्थापना का मार्ग प्रशस्त किया।


Leave a Comment

Your email address will not be published.